12,855 views 165 on YTPak
98 8

Published on 09 Nov 2014 | over 2 years ago

[ www.rajnipallavi.com/ ]
Hamari Sanson Mein Aaj Tak Woh [ Singer : Rajni Pallavi ]
Poet: Tasleem Fazli

हमारी साँसों में आज तक वो हीना की खुशबू महक रही है
लबों पे नघमे मचल रहे हैं नज़र से मस्ती छलक रही है
hamaari saanson mein aaj tak wohhenna ki khusbu mehak rahi hai
labon pe naghme machal rahein hainnazar se masti chhalak rahi hai

वो मेरे नज़दीक आते आते हया से एक दिन सिमट गए थे
मेरे ख्यालों में आज तक वोह बदन की डाली लचक रही है
Woh mere nazdeek aate aate hayaa se ek din simat gaye the-y
Mere khayalo-n mein aaj tak woh badan ki daali lachak rahi hai

सदा जो दिल से निकल रही है वो शेर-ओ-नग़मों में ढल रही है
के दिल के आँगन में जैसे कोई ग़ज़ल की झांझर झलक रही है
Sadaa jo dil se nikal rahi hai woh sher-o-naghmo-n mein dhal rahi hai
Ke dil ke aangan mein jaise koi ghazal ki jhaanjhar jhalak rahi hai

तड़प मेरे बेकरार दिल की कभी तो उन पे असर करेगी
कभी तो वो भी जलेंगे इसमें जो आग दिल में देहक रही है
Tadap mere bekhraar dil ki kabhi To un-pay asar karey-gi
Kabhi to woh bhi jalengay isme jo aag dil main dahek rahi hai

Loading related videos...