109,166 views 211 on YTPak
580 62

Published on 17 Sep 2010 | over 6 years ago

वक़्त का ये परिंदा रुका है कहाँ
मैं था पागल जो इसको बुलाता रहा
चार पैसे कमाने मैं आया शहर
गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

लौटता था मैं जब पाठशाला से घर
अपने हाथों से खाना खिलती थी माँ
रात में अपनी ममता के आँचल तले
थपकीयाँ मुझे दे के सुलाती थी माँ
सोच के दिल में एक टीस उठती रही
रात भर दर्द मुझको जागता रहा
चार पैसे कमाने मैं आया शहर
गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

सबकी आँखों में आँसू छलक आए थे
जब रवाना हुआ था शहर के लिए
कुछ ने माँगी दुआएँ की मैं खुश रहूं
कुछ ने मंदिर में जाके जलाए दिए
एक दिन मैं बनूंगा बड़ा आदमी
ये तसव्वुर उन्हें गुदगुदाता रहा
चार पैसे कमाने मैं आया शहर
गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

माँ ये लिखती हर बार खत में मुझे
लौट आ मेरे बेटे तुझे है क़सम
तू गया जबसे परदेस बेचैन हूँ
नींद आती नहीं भूख लगती है कम
कितना चाहा ना रोऊँ मगर क्या करूँ
खत मेरी माँ का मुझको रुलाता रहा
चार पैसे कमाने मैं आया शहर
गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

Waqt ka ye parinda ruka hai kahan
main tha paagal jo isko bulata raha
Chaar paise kamane main aaya shahar
Gaon mera mujhe yaad aata raha

Laut ta tha main jab pathshala se ghar
Apne haathon se khana khilati thi maa
raat mein apni mamta ke aanchal tale
thapkiyan mujhe de ke sulati thi maa
soch ke dil mein ek tees uthti rahi
Raat bhar dard mujhko jagata raha
Chaar paise kamane main aaya shahar
Gaon mera mujhe yaad aata raha

Sabki aankhon mein aansu chalak aaye the
Jab ravana hua tha shahar ke liye
Kuch ne maangi duayen ki main khush rahoon
kuch ne mandir mein jaake jalaye diye
Ek din main banoonga bada aadmi
Ye tasavvur unhen gudgudata raha
Chaar paise kamane main aaya shahar
Gaon mera mujhe yaad aata raha

Maa ye likhti har baar khat mein mujhe
Laut aa mere bete tujhe hai qasam
Tu gaya jabse pardes bechain hoon
neend aati nahin bookh lagti hai kam
kitna chaha na roun magar kya karoon
khat meri maa ka mujhko rulata raha
Chaar paise kamane main aaya shahar
Gaon mera mujhe yaad aata raha

Loading related videos...